कृषि

बरसात के मौसम में इन सब्जियों की खेती करने पर मिलेगा बंपर उत्पादन, होगा शानदार मुनाफा

Tejpal Gurera
3 July 2022 4:54 AM GMT
बरसात के मौसम में इन सब्जियों की खेती करने पर मिलेगा बंपर उत्पादन, होगा शानदार मुनाफा
x
बरसात के मौसम में सब्जियों पर सिंचाई की आवश्यकता बारिश के पानी से पूरी हो जाती है. कई ऐसी सब्जियां हैं

Vegetable Farming : देश के कई हिस्सों में मॉनसून दस्तक दे चुका है. खरीफ फसलों की बुवाई के लिए ये महीना सबसे महत्वपूर्ण है. इन सबके अलावा कुछ ऐसी सब्जियां हैं जो बरसात के मौसम में बेहद तेजी से बढ़ती हैं.

ऐसे मौसम में सब्जियों पर सिंचाई की आवश्यकता बारिश के पानी से पूरी हो जाती है, जिससे लागत में भी कमी आती है. हम यहां आपको कुछ ऐसी ही सब्जियों के बारे में बता रहे हैं, जिसकी खेती कर किसान बंपर मुनाफा कमा सकते हैं.

खीरा और मूली

बरसात के मौसम में खीरा और मूली की खेती कर किसान अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं. इन दोनों को बढ़ने के लिए धूप और पानी की अच्छी-खासी जरूरत पड़ती है. दोनों फसलों को लगाने के लिए ज्यादा जगह की आवश्यकता नहीं पड़ती है. दोनों ही सब्जियां महज तीन से चार सप्ताह में तैयार हो जाती हैं और किसानों को अच्छा खासा मुनाफा दे जाती हैं.

बीन्स और सेम

बीन्स और सेम की खेती के लिए जुलाई और अगस्त का महीना सबसे उपयुक्त माना जाता है. दोनों पौधे बेलदार होते हैं. इ्न्हें ऐसी जगहों पर लगाएं जहां पर किसी पेड़ या दीवार का सहारा लेकर ये बढ़ सकें. बारिश के मौसम में में इनके फल अच्छे तरीके से विकास कर सकते हैं.

करेला

करेले के सेवन से हम कई तरह की बीमारियों से बचे रहते हैं. डॉक्टर भी विभिन्न बीमारियों में इसका सेवन करने की सलाह देते हैं. मार्केट में करेले की डिमांड हमेशा बनी रहती है. ऐसे में इस सब्जी की बुवाई कर किसान कम समय में अच्छा-खासा मुनाफा हासिल कर सकते हैं.

हरी मिर्च और धनिया

हरी मिर्च और धनिया के लिए बलुई दोमट या लाल मिट्टी सबसे ज्यादा उपयुक्त मानी जाती है. बारिश के मौसम में किचन या टेरेस गार्डन में भी मिर्च उगा सकते हैं. इसकी खेती आप बड़े से लेकर छोटे दोनों पैमाने पर कर सकते हैं.

बैंगन और टमाटर का उत्पादन

बैंगन और टमाटर वैसे साल में कभी भी बोया जा सकता है. सर्दियों में भी इसकी खेती की जा सकती है. हालांकि, इन सबसे इतर बरसात के मौसम में भी इसकी बुवाई कर बंपर उत्पादन हासिल किया जा सकता है.

Next Story