कृषि

Cotton Price : कॉटन के भाव में तूफानी तेजी, MCX पर रेट 44500 के पार, देखें पूरी रिपोर्ट

Mukesh Gusaiana
19 April 2022 2:12 AM GMT
Cotton Price : कॉटन के भाव में तूफानी तेजी, MCX पर रेट 44500 के पार, देखें पूरी रिपोर्ट
x
Cotton Price Hike: कॉटन के भाव में तूफानी तेजी, MCX पर रेट 44500 के पार, केंद्र सरकार ने कपास पर आयात शुल्क किया समाप्त, देखें रिपोर्ट

MCX पर सोमवार को कॉटन की कीमतों में फिर जबरदस्त तेजी देखने को मिली। MCX पर कॉटन 29 अप्रैल वायदा डिलीवरी वाले अनुबंध की कीमत बीते कारोबारी दिन के मुकाबले 540 रूपये की तेजी के साथ 44,590 रुपये पर खुला । जबकि 31 मई अनुबंध की कीमत 230 रुपये की तेजी के साथ 44,400 पर खुला।

MCX पर कॉटन अप्रैल वायदा का रेट बीते कारोबारी दिन के मुकाबले 470 रुपये की बढ़त के साथ 44520 के स्तर कारोबार कर रहा था, जबकि मई वायदा 570 रुपये की तेजी के साथ 44,740 रुपये के स्तर पर कारोबार कर रहा था . आइये देखें एमसीएक्स पर कॉटन के लाइव प्राइस क्या चल रहा है ?

MCX COTTON Price/Rate Live 18 April 2022

कॉटन रेट में तेजी : Multi Commodity Exchange of India Ltd COTTON Price/Rate Live 18 April, २०२२


MCX Cotton COTTON-29APR (Expiry) COTTON-31MAY (Expiry)

Current Rate 44520 44740

NetChng +470 +570

Chng +1.07 +1.29

Open 44590 44400

High 44680 44800

Low 44460 44400

Pre Close 44050 44170

केंद्र सरकार ने किया कपास पर आयात शुल्क समाप्त

सरकार ने जनहित में कदम उठाते हुए कपास की कीमत कम करने के लिए कपास के आयात पर सीमा शुल्क में छूट देने का फैसला किया है। इस छूट से पूरे कपड़ा क्षेत्र- धागा, परिधान आदि सभी को लाभ होगा। साथ ही उपभोक्ताओं और वस्त्र उद्योग को राहत मिलेगी।

उद्योग कच्चे कपास पर 5 फीसदी मूल सीमा शुल्क (बीसीडी) और 5 फीसदी कृषि अवसंरचना और विकास उपकर (एआईडीसी) हटाने की मांग कर रहा था। केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड (सीबीआईसी) ने कपास आयात के लिए सीमा शुल्क और कृषि अवसंरचना विकास उपकर से छूट को अधिसूचित किया है।

यह अधिसूचना 14 अप्रैल 2022 से प्रभावी होगी और 30 सितंबर 2022 तक लागू रहेगी। कच्चे कपास पर आयात शुल्क हटाने का भारत में कपास की कीमतों पर लाभदायक प्रभाव होना चाहिए।

जाने ! कपास पर आयात शुल्क हटाने से कीमतों में क्या असर पड़ा?

केंद्र सरकार द्वारा कपास पर आयात शुल्क समाप्त किए जाने के बाद नरमा कपास में मामूली सा दबाव दिखाई दिया, जो एक दिन बाद ही फिर सुधार की तरफ बढ़ गया है।

शनिवार को देशभर की मंडियों में लगभग 22 हजार गांठों की आवक हुई और कपास का भाव 200 से 300 रुपए डाउन दिखाई दिया। ज्यादा दबाव रूई में आया है। रूई प्रति कैंडी ₹ 500 से लेकर 1000 रुपए तक गिरावट की तरफ बढ़ी है।

गुजरात में कपास का भाव 2400 रुपए पर कायम है, जबकि 29 एमएम रूई कुछ कमजोर होकर 93800 पर आ गई है। मध्य प्रदेश में कपास 12 हजार पर स्थिर है और 29 एमएम रूई 97 हजार रुपए तक बोली जा रही है।

महाराष्ट्र में कपास का भाव 12200 रुपए और 30 एमएम रूई 97 हजार रुपए के स्तर पर कारोबार कर रही है। कर्नाटक बेस्ट कपास 12550 पर है और 30 एमएम रूई 96500 बोली जा रही है। गुंटूर में 30 एमएम रूई 500 रुपए टूटकर 98500 पर आ गई है, जबकि आदिलाबाद में इसका भाव 97 हजार है।

उत्तर भारत की मंडियों में शनिवार को बाजार 300-400 रुपए कमजोर दिखाई दिया, लेकिन रविवार को वह फिर सुधार की तरफ दिखाई दिया। शनिवार को आदमपुर मंडी में नरमा का भाव 11671 रुपएथा, जो रविवार को 11911 रुपए बोला गया। विशेषज्ञों का कहना है कि आयात होने वाला माल नरमा-कपास नहीं होता, बल्कि रूई होता है, लेकिन जीनिंग-स्पीनिंग वालों की मांग घटने से बाजार थोड़ा सा कमजोर हुआ है।

आने वाले दिनों में आयात शुल्क घटने की खबर हजम होते ही बाजार फिर तेजी की तरफ चलता हुआ दिखाई देगा। हालांकि अब रूई में कुछ प्रोफिट बुकिंग भी देखने को मिली है और यह सही फैसला है।

Next Story