कृषि

खुशखबरी: अब किसानो के खेत से बारिश का पानी निकालेगी हरियाणा सरकार, जाने क्या है नई योजना

Sandeep Beni
16 Aug 2022 3:07 AM GMT
खुशखबरी: अब किसानो के खेत से बारिश का पानी निकालेगी हरियाणा सरकार, जाने क्या है नई योजना
x
किसानों की सहायता के लिए हरियाणा सरकार ने अपना हाथ आगे बढ़ाया है. सरकार ने किसानों की सेमग्रस्त भूमि के इलाज के लिए नई तकनीक खोजी है.

चंडीगढ़ :- किसानों की सहायता के लिए हरियाणा सरकार ने अपना हाथ आगे बढ़ाया है. सरकार ने किसानों की सेमग्रस्त भूमि के इलाज के लिए नई तकनीक खोजी है. सरकार ने इस समस्या से ग्रस्त किसानों से पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन मांगा है. सरकार सरफेस ड्रेनेज तकनीक के माध्यम से सेमग्रस्त भूमि के नीचे से पानी निकालेगी.

Portal के जरिए किसानो ने मांगी मदद

राज्य सरकार ने लक्ष्य रखा है कि इस साल एक लाख करोड़ सेमग्रस्त और लवणीय भूमि को उपजाऊ बनाया जाएगा. सरकार के इस लक्ष्य के तहत 3662 किसानों ने 21000 एकड़ सेमग्रस्त और लवणीय भूमि के लिए Online पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन के द्वारा मदद मांगी है. भिवानी, सिरसा, हिसार, रोहतक, झज्जर, सोनीपत कि सेमग्रस्त लगभग 20 हजार एकड़ से पानी निकालने का कार्य जारी है.

9 लाख 83 हजार एकड़ भूमि जलभराव और लवणता से ग्रसित

एक सर्वे में पाया गया कि 52 लाख एकड़ भूमि में से 9,83,000 एकड़ भूमि ऐसी है जो जलभराव और लवणता से ग्रसित है. इनमें से भी करीब 1 लाख 74 हजार भूमि सेमग्रसित व बंजर पड़ी हुई है. बता दे कि सेमग्रस्त और बंजर भूमि को कृषि योग्य बनाने के लिए 45000 रूपये प्रति एकड़ खर्च आता है. इसमें से केवल 10% राशि ही किसानों को देनी पड़ती है.

सरफेस ड्रेनेज तकनीक के माध्यम से निकाला जाएगा पानी

सरफेस ड्रेनेज तकनीक एक ऐसी तकनीक है जिसमें 2 या 3 मीटर की गहराई तक छेद वाले पाइप जमीन में दबाए जाते हैं, और पानी निकालकर उनके पास एक जोहड़ बनाकर उसमें डाला जाएगा ताकि इसमें मछली पालन किया जा सके. सरकार का प्रयास है कि सौर आधारित जल निकासी प्रणाली की सहायता से बारिश के पानी और सेम का पानी ड्रेन में लाया जाए, इस तरिके से बिजली का कोई खर्च नहीं होगा.

लवणीय, सेमग्रस्त और बंजर भूमि को बनाया जाएगा कृषि योग्य

सरकार ने किसानों की मदद के लिए Portal बनाया है, इस पोर्टल पर जाकर किसान प्रभावित भूमि का डाटा अपलोड कर सकते है. योजना के अनुसार जहां पर 250 एकड़ सेमग्रसित भूमि Portal पर दर्ज होगी केवल उसी भूमि पर सरकार अपना Project शुरू करेगी. इस योजना के तहत सेमग्रस्त, लवणीय और बंजर भूमि को खेती करने के योग्य बनाया जाएगा.

Next Story