कृषि

सरसों में आ गई रिकोर्ड तोड़ तेजी; अब बनाया नया रिकॉर्ड, फटाक से देखिये ताजा भाव

Mukesh Gusaiana
20 April 2022 12:42 PM GMT
सरसों में आ गई रिकोर्ड तोड़ तेजी; अब बनाया नया रिकॉर्ड, फटाक से देखिये ताजा भाव
x
किसान साथियो मंडी भाव टुडे पर हम डेली फसलों की तेजी मंदी रिपोर्ट लेकर आते रहते हैं। हमें आशा है कि इस रिपोर्ट से आपको फायदा मिल रहा होगा।

किसान साथियों आज की रिपोर्ट में हम सरसों के भाव को लेकर ताजा माहौल की चर्चा करेंगे। ये समझने की कोशिश करेंगे कि सरसों के भाव में आयी तेजी कब तक रह सकती है और भाव कहाँ तक जा सकते हैं।

ताजा मार्केट अपडेट | Sarso Rate

दोस्तों हफ्ते का दूसरा दिन था मुख्य फसलों में सरसों को लेकर आज भी काफी गहमागहमी का माहौल रहा। ओवर ऑल सरसों के बाजार में तेजी का रुख रहा सुबह में जब मंडीयां खुली तो भाव में अच्छी खासी तेजी दिखाई दे रही थी। शाम होते-होते हल्का सा प्रेशर जरूर बना लेकिन फिर भी ओवर ऑल माहौल तेजी का ही देखने को मिला। व्यापारियों के अनुसार घरेलू बाजार में मंगलवार को भी सरसों के भाव सुबह के सत्र में 25 से 50 रुपये तेज खुले, लेकिन बढ़े दाम पर शाम को मिलों की मांग कमजोर देखी गई। गौरतलब है कि बढ़े दाम पर मिलें केवल जरूरत के हिसाब से ही खरीद कर रही हैं।

जयपुर में आज कंडीशन सरसों ने फिर से 7350 रुपये का भाव छू लिया। शाम होते होते भाव में थोड़ी नरमी दिखी और टॉप भाव से 20 से 25 रुपये तक भाव टूटे । अंतिम भाव 7325 तक का रिपोर्ट हुआ। अन्य मुख्य मंडियों के भाव की बात करें तो संगरिया मंडी ने अपना टोप भाव दिखाया और सरसों का भाव 7250 रुपये प्रति क्विंटल तक रहा। इसके अलावा रावतसर मंडी में भी 7100 के उपर के भाव देखने को मिल रहे हैं।

हरियाणा की मुख्य मंडियों की बात करें तो सिरसा मंडी में सरसों का टोप भाव 7000 रुपये प्रति क्विंटल का रहा जबकि रेवाड़ी में भी 7050 तक के भाव बोले गए । चरखी दादरी में अच्छे भाव लगे और सरसों 7150 तक बिकी। किसान साथियो हाजिर मंडियों मे सरसों के भाव में कहीं कहीं पर नरम रुख भी देखने को मिला है। सारा मामला आवक का है कुछ मंडियां जहां पर आवक ज्यादा हुई वहाँ पर भाव थोड़े नर्म दिखे । लैब के हिसाब से सरसों मे अलग अलग रेट देखने को मिले हैं। इस दौरान उत्पादक मंडियों में सरसों की दैनिक आवक 7 लाख बोरियों के पूर्वस्तर पर स्थिर बनी रही।

क्या कह रहे जानकार | Sarso Rate | सरसों का भाव

जानकारों का मानना है कि सरसों की दैनिक आवकों में अभी ज्यादा बढ़ोतरी की उम्मीद नहीं है, तथा रूस और यूक्रेन के बीच चल रही जंग के कारण विश्व स्तर पर खाद्य तेलों की सप्लाई बाधित चल रही है । इसलिए खाद्य तेलों के दामों में विदेशी बाजार के साथ साथ घरेलू बाजार में भी तेजी ही बने रहने की उम्मीद है। क्योंकि किसानों के साथ ही स्टॉकिस्ट भी दाम घटाकर सरसों की बिकवाली नहीं कर रहे हैं। बढ़ी हुई कीमतों में ग्राहकी कमजोर होने से जयुपर में लगातार चार दिनों की तेजी के बाद मंगलवार को सरसों तेल के भाव लगभग स्थिर चल रहे हैं । इस दौरान जहां कच्ची घानी सरसों तेल के भाव 1,508 रुपये प्रति 10 किलो पर और एक्सपेलर के तेल के भाव 1,498 रुपये प्रति 10 किलो पर स्थिर हैं । सरसों खल में भी मांग सामान्य की तुलना में कमजोर होने से भाव 2,825 से 2,850 रुपये प्रति क्विंटल बोले गए। शिकागों में आज इलेक्ट्रानिक ट्रेडिंग में जहां सोया तेल की कीमतों में गिरावट देखने को मिली, वहीं सोयाबीन और मील के दाम तेज हुए। विदेशी बाजारों में मिक्स टाइप का माहौल देखने को मिला है।

सरसों की आवक

देशभर की मंडियों में मंगलवार को सरसों की दैनिक आवक सोमवार के बराबर 7 लाख बोरी की ही हुई, कुल आवकों में से प्रमुख उत्पादक राज्य राजस्थान में 3.50 लाख बोरी, मध्य प्रदेश में 65 हजार बोरी, उत्तर प्रदेश में 1.15 लाख बोरी, हरियाणा और पंजाब में 75 हजार बोरी, गुजरात में 35 हजार बोरी तथा अन्य राज्यों में सरसों की आवक 60 हजार बोरी के आसपास की आवक रहीं।

खाद्य तेलों के भाव दिख रहे हैं बेकाबू

केंद्र सरकार द्वारा पिछले साल से लेकर अब तक खाद्य तेलों में महंगाई रोकने के किए गए सभी प्रयास फेल होते जा रहे हैं। स्टॉकिस्टों पर की गई सख्ती कुछ ज्यादा काम आती नहीं दिखी। खाद्य तेलों में महंगाई लगातार बढ़ रही है। अप्रैल माह से सभी प्रकार के खाद्य तेलों में प्रतिदिन बढ़ोत्तरी हो रही है। कोटा-बूंदी लाइन पर कच्ची घानी तेल 1498 रुपए बोला जा रहा है। हनुमानगढ़ – गंगानगर में इसके दाम 1480 के स्तर पर है। दरअसल सरसों का तेल सबसे सस्ता होने के कारण खपत निरंतर बढ़ रही है, जिससे बाजार तेज हो रहा है। इसमें आगे भी मंदे की संभावना कम है।

सरसों का ताजा भाव

  • ऐलनाबाद आज का सरसों का रेट ₹ 7028
  • सिरसा मंडी सरसों का भाव ₹ 7001
  • अबोहर मंडी सरसों का रेट आज़ का ₹ 6825
  • बूंदी मंडी mustard rate today ₹ 6800
  • कोटा मंडी सरसों का भाव 6875 टोप
  • इंदौर sarso rate ₹ 6550
  • चरखी दादरी सरसों का टोप भाव ₹ 7150
  • रायसिंहनगर सरसों भाव ₹ 6700
  • बाराँ सरसों भाव ₹ 6800
  • गंगापुर सरसों भाव ₹ 6950
  • मेड़ता सरसों भाव ₹ 6600
  • हिण्डौन सरसों भाव ₹ 7065
  • हापुड़ सरसों रेट ₹ 6700
  • सुमेरपुर सरसों रेट 7000
  • बीकानेर sarso rate ₹ 6400
  • रेवाड़ी मंडी सरसों रेंज ₹ 6600 से 7050
  • हनुानगढ़ मंडी टोप सरसों भाव ₹ 7215 41.61 लेब
  • आदमपुर मंडी sarso ka rate 6740
  • सिरसा मंडी एक डेरी टोप ₹ 7001
  • सिरसा मंडी आम सरसों रेट 6100/6666
  • भरतपुर सरसों का भाव 6925
  • अशोक नगर सरसों का रेट 6500
  • सादुल पुर सरसों का रेट ₹ 6100/6500
  • सूरतगढ़ मंडी सरसों का भाव ₹ 6811
  • संगरिया मंडी सरसों रेट 6400/7240
  • ऐलनाबाद मंडी सरसों आम रेट 6300/6911
  • गोलूवाला सरसों की आज की बोली ₹ 6100-7600 आवक 1500-कि
  • जयपुर सरसों का रेट ₹ 7350 शाम को 7325
  • दिल्ली भाव ₹ 7100
  • नेवाई भाव ₹ 6500/7000
  • अलवर मंडी भाव ₹ 6300/6900
  • जुलाना मंडी भाव ₹ 6874
  • भट्टू मंडी भाव ₹ 6700
  • सरसों खल का ताजा भाव
  • Sarso khal rate today
  • गंगापुर-2800
  • श्री गंगानगर-2725/2730
  • केकरी-2800
  • चरखी दादरी-2800
  • भरतपुर-2900
  • अलवर-2800
  • निवाई-2700
  • कोटा-2900
  • टोंक-2690
  • बूंदी-2850
  • सुमेरपुर-2800
  • जोधपुर-2800

रोके या बेचे | सरसों का भाव

किसान साथियो सरसो को लेकर अच्छी बात यह है की सरसों का तेल अभी भी अन्य खाद्य तेलों से सस्ता है। भारत जैसे देश में मध्यम वर्ग जरूर सरसों तेल की तरफ जायेगा और इसी कारण बाकी तेलों के मुकाबले सरसों के तेल की डिमांड ज्यादा रह सकती है। दोस्तों अगर आप 3 दिन पहले कि हमारी पोस्ट देखें तो हमने बताया था कि इन भावों पर सरसों को स्टॉक किया जा सकता है वहां के बाद भाव कम से कम ₹200 तक तेज हो चुके हैं। बढ़े हुए भाव पर अगर आवक का कोई बहुत बड़ा दबाव नहीं आता है तो सरसों मार्केट में कुछ दिन और तेजी का माहौल ही रहने वाला है। sarso rate

पिछले साल खाद्य तेलों की ऊंची कीमतों के कारण किसानों ने अबकी बार अधिक रकबे में सरसों की खेती की है। सरकारी आंकड़ों के अनुसार रबी सीजन में तिलहन का रकबा लगभग 18.30 लाख हेक्टेयर बढ़ा है। तेल कारोबारियों के संगठन कॉएट के मुताबिक 2021-22 में सरसों का उत्पादन 29 प्रतिशत बढ़कर 109.5 लाख टन के आसपास होने का अनुमान है। भारत में तिलहन उत्पादन बढ़ा जरूर है लेकिन अभी भी ये नाकाफी है क्योंकि भारत को करीब 250 लाख टन खाद्य तेल की जरूरत है जबकि देश का घरेलू उत्पादन 111.6 लाख टन है। अंतर्राष्ट्रीय माहौल को देखते हुए इस बार खाद्य तेलों का आयात उतना सुगम नहीं दिख रहा है जितना पहले था। इन तथ्यों के आधार पर कहा जा सकता है कि सरसों में बड़ी मन्दी की उम्मीद ना के बराबर है। और सीजन के पूरी तरह खत्म होने पर कपास की तरह बड़ी तेजी आ सकती है।

अपील | सरसों का भाव | सरसों तेजी मंदी रिपोर्ट |

हमारा किसान भाइयों और व्यापारी भाइयों से निवेदन है कि फसल बेचने और खरीदने से पहले, अपने पास की मंडी मे भाव का पता कर ले भावों की जानकारी सार्वजानिक स्रोतों से प्राप्त की गयी है इस डाटा का उपयोग से होने वाली हानि के लिए मंडी भाव टुडे किसी भी तरह से जिम्मेदार नहीं है । इसलिए वायदा कारोबार को लगातार मॉनिटर करते रहें। फसलों के भाव की अनिश्चितता को देखते हुए माल बेचने या खरीदने के लिए अपने विवेक का इस्तेमाल करें। अगर आप वीडियो के माध्यम से जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो हमारा यूट्यूब चैनल " मंडी भाव टुडे " को जरूर सब्सक्राइब करें। सरसों तेजी मंदी रिपोर्ट सरसों तेजी मंदी रिपोर्ट , सरसों तेजी मंदी रिपोर्ट , सरसों तेजी मंदी रिपोर्ट , सरसों तेजी मंदी रिपोर्ट , सरसों तेजी मंदी रिपोर्ट, सरसों तेजी मंदी रिपोर्ट

Next Story