कृषि

अब आएंगे आम आदमी के अच्छे दिन! आपकी मुट्ठी में होंगे टमाटर, प्याज और आलू के दाम

Sandeep Beni
18 July 2022 12:21 PM GMT
अब आएंगे आम आदमी के अच्छे दिन! आपकी मुट्ठी में होंगे टमाटर, प्याज और आलू के दाम
x
केंद्रीय कृषि मंत्रालय ने 2021-22 में बागवानी फसलों का उत्पादन अनुमान जारी किया. सब्जियों और फलों का प्रोडक्शन बढ़ेगा. उपभोक्ताओं को महंगाई से मिलेगी राहत. आम, केला, शहद, सेब और पपीता का कितना होगा उत्पादन.

आलू, टमाटर और प्याज के दाम से अक्सर परेशान रहने वाले उपभोक्ताओं के लिए राहत भरी खबर है. इस साल इन तीनों के उत्पादन में वृद्धि का अनुमान लगाया गया है. केंद्रीय कृषि मंत्रालय के अधिकारियों ने बताया कि इन तीनों की बंपर पैदावार हो सकती है. इस साल प्याज उत्पादन 31.70 मिलियन टन हो सकता है जबकि 2020-21 में 26.64 मिलियन टन था. इसी तरह आलू का उत्पादन 2020-21 में 56.17 मिलियन टन था

जिसे 2021-22 में 53.58 मिलियन टन होने की उम्मीद है. इसी तरह टमाटर का उत्पादन 2020-21 में 21.18 मिलियन टन की तुलना में 20.34 मिलियन टन होने की उम्मीद है. इन तीनों के दाम बढ़ते ही महंगाई का असर तेज हो जाता है. केंद्र सरकार ने 2021-22 के लिए विभिन्न बागवानी फसलों के क्षेत्र और उत्पादन का दूसरा अग्रिम अनुमान जारी कर दिया है. यह अनुमान जनता की जेब को राहत देने वाले हैं.

कृषि मंत्रालय की ओर से जारी अनुमान के मुताबिक कुल बागवानी उत्पादन 341.63 मिलियन टन होने का अनुमान है, जो 2020-21 (अंतिम) की तुलना में लगभग 7.03 मिलियन टन ज्यादा है. उत्पादन में करीब 2.10 प्रतिशत की वृद्धि हुई है.

केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने उत्पादन में वृद्धि होने पर खुशी जाहिर की है. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन में सरकार की नीतियों, बागवानी किसानों की मेहनत और हमारे वैज्ञानिकों के योगदान से रिकॉर्ड उत्पादन हो रहा है. सरकार

फलों का कितना होगा उत्पादन

सरकार गेहूं और धान जैसी पारंपरिक फसलों की बजाय किसानों को बागवानी फसलों की खेती के लिए प्रोत्साहित कर रही है. फलों के बाग लगाने के लिए लगभग हर राज्य सरकार किसानों को मदद दे रही है. जिसका असर उत्पादन पर दिखाई दे रहा है. फिलहाल,पिछले वर्ष की तुलना में फलों, सब्जियों और शहद के उत्पादन में वृद्धि का अनुमान है. फलों का उत्पादन 2020-21 में 102.48 मिलियन टन की तुलना में 107.10 मिलियन टन होने का अनुमान है. जबकि 2020-21 में 200.45 मिलियन टन की तुलना में सब्जियों का उत्पादन 204.61 मिलियन टन होने का अनुमान है. उत्पादन का यह एलान केंद्रीय कृषि मंत्रालय ने राज्यों, केंद्र शासित प्रदेशों और अन्य सरकारी एजेंसियों से प्राप्त जानकारी के आधार पर किया है.

शहद, सेब और पपीता का कितना उत्पादन

शहद का उत्पादन 2021-22 में 133000 टन होने का अनुमान है. जो कि 2020-21 में 125000 टन था. इसमें 6.40 फीसदी की वृद्धि हुई है. सरकार शहद उत्पादन पर काफी फोकस कर रही है. इसलिए इस सेक्टर में ग्रोथ दिखाई दे रही है.

फलों की बात करें तो पपीता उत्पादन 5885000 मिट्रिक टन होने का अनुमान है. जबकि 2020-21 में 5540000 मिट्रिक टन उत्पादन हुआ था. सेब उत्पादन में भी वृद्धि हो सकती है. मंत्रालय ने बताया है कि 2021-22 में 2437000 मिट्रिक टन सेब उत्पादन होगा, जबकि पिछले साल 2276000 मिट्रिक टन उत्पादन था.

आम और केला उत्पादन में भी उछाल

इस साल केला उत्पादन भी वृद्धि का अनुमान लगाया गया है. उम्मीद है कि 2021-22 में 35131000 मिट्रिक टन केला पैदा होगा. जबकि पिछले साल 33062000 टन हुआ था. मौसंबी उत्पादन में भी भारी उछाल होने का अनुमान है.

साल 2020-21 में 3988000 मिट्रिक टन मौसंबी पैदा हुई थी. जबकि इस साल 4249000 मिट्रिक टन उत्पादन का अनुमान है. फलों के राजा आम उत्पादन में भी इजाफा होने का अनुमान लगाया गया है. इस साल 21011000 मिट्रिक टन उत्पादन होगा. जबकि पिछले साल यानी 2020-21 में इसका उत्पादन 20386000 टन था.

Next Story