कृषि

सरकार ने बढ़ा दी है आवेदन की तारीख, नहीं की धान की बुवाई तो मिलेंगे 7 हजार रुपये

Sandeep Beni
6 Aug 2022 9:47 AM GMT
सरकार ने बढ़ा दी है आवेदन की तारीख, नहीं की धान की बुवाई तो मिलेंगे 7 हजार रुपये
x
Subsidy For Not Sowing Paddy: खट्टर सरकार अपने यहां के किसानों को धान की जगह अन्य फसलों की खेती करने वाले किसानों के लिए प्रति एकड़ 7 हजार रुपये की सब्सिडी देने का निर्णय लिया है. इसके अलावा, जिन किसानों ने खेतों में धान की फसल नहीं लगाते हुए उसे खाली छोड़ रखा है, उनको भी इस फसल विविधिकरण योजना के तहत लाभ दिया जाएगा.

Subsidy For Not Sowing Paddy: देश के कई राज्य इन दिनों भारी भूजल संकट का सामना कर रहे हैं. हरियाणा भी उन्हीं राज्यों में से एक है. यहां के कई जिलों में भूजल स्तर निचले स्तर पर पहुंच गया है. स्थिति को देखते हुए सरकार ने राज्य के किसानों को इस बार धान की अन्य वैकल्पिक फसलों को अपनाने का सलाह दिया था.

इस स्कीम के तहत करें आवेदन

खट्टर सरकार अपने यहां के किसानों को धान की जगह अन्य फसलों की खेती करने वाले किसानों के लिए प्रति एकड़ 7 हजार रुपये की सब्सिडी देने का निर्णय लिया है. इसके अलावा जिन किसानों ने खेतों में धान की फसल नहीं लगाते हुए उसे खाली छोड़ रखा है, उनको भी इस फसल विविधिकरण योजना के तहत लाभ दिया जाएगा.

यहां करें आवेदन

बता दें किसानों 7 हजार रुपये पाने के लिए मेरी फसल मेरा ब्योरा पोर्टल (Meri Fasal Mera Byora Portal) की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर आवेदन करना होगा. पहले इस योजना के लिए आवेदन करने के लिए आखिरी तारीख 31 जुलाई रखी गई थी. अब सरकार ने किसानों की मांग को देखते हुए आवेदन करने की आखिरी तारीख को 10 अगस्त कर दिया है. कृषि विभाग की पुष्टि होने के बाद किसानों के खाते में इस योजना की राशि भेज दी जाएगी.

दलहन-तिलहन फसलों की खेती करने पर सब्सिडी

भूजल स्तर को गिरने से रोकने के लिए हरियाणा सरकार इस तरह के और भी फैसले लेते आई है. बता दें कि दलहन-तिलहन फसलों को सिंचाई की कम आवश्यकता पड़ती है. ऐसे में इन फसलों की खेती को प्रोत्साहित ककने के लिए सरकार किसानों को मक्के की खेती ना करने पर भी 4 हजार रुपये प्रति एकड़ देने का फैसला किया था. इसके अलावा सरकार की तरफ से धान की सीधी बिजाई पर भी किसानों को तीन हजार रुपये प्रति एकड़ दिए जा रहे हैं.

Next Story