लाइफस्टाइल

Female Condom : मेल और फीमेल कंडोम में होता है ये ख़ास अंतर, जानिए कैसे होता है ये इस्तेमाल

Aarushi
23 Sep 2022 3:26 AM GMT
Female Condom : मेल और फीमेल कंडोम में होता है ये ख़ास अंतर, जानिए कैसे होता है ये इस्तेमाल
x
Female and Male Condom में क्या अंतर है, दोनों में से कौन सा ज्यादा सुरक्षित है और किस कंडोम में यौन संबंध बनाना ज्यादा सुरक्षित है,

Female Condom Benefits- यौन संबंध (Sexual Relation) बनाने से पहले सुरक्षा का ध्यान रखना बहुत जरूरी होता है. आनंद के साथ साथ सुरक्षा का ध्यान रखते हुए कंडोम का इस्तेमाल किया जाता है. क्या आपको पता है कि फीमेल (Female Condom) और मेल (Male Condom) दोनों तरह की कंडोम होती है और दोनों में फर्क भी होता है.आईए जानते हैं दोनों में से कौन सा ज्यादा बेहतर और सुरक्षित है. कौन सा कंडोम बर्थ कंट्रोल (Birth Control) करने में मददगार है.

Male Condom

पहले कंडोम एक ही तरह का होता है जो दोनों के काम आता था लेकिन अब महिलाओं के लिए अलग से कंडोम बनता है, जिसे महिलाएं इस्तेमाल करती हैं. कहते हैं कि यह कंडोम दोनों के लिए ज्यादा सुरक्षित है. अगर हम महिला और पुरुष कंडोम के बीच सामान्य अंतर के बारे में बात करें तो पुरुष कंडोम लेटेक्स,पॉलीयुरेथेन,पॉलीसोप्रीन से बने होते हैं, जिनका उपयोग इरेक्शन के दौरान किया जाता है. यह कई फ्लेवर और साइज के होते हैं, यह बाजार में आसानी से मिल जाते हैं.

फीमेल और मेल कंडोम में फर्क (Difference between female and male condom)

वहीं,महिला कंडोम पॉलीयूरेथेन या नाइट्राइल से बने होते हैं,जो महिला की योनि की रक्षा करते हैं और बर्थ कंट्रोल में मदद करते हैं. महिला कंडोम एक थैली की तरह होता है जिसके अंदर दो सिरे होते हैं. इस थैली का एक सिरा बंद होता है और दूसरा सिरा खुला होता है. इन दोनों में 2 छल्ले होते हैं जिनका उपयोग महिलाएं आसानी से योनि में कर सकती हैं. यह कंडोम आसानी से नहीं मिलता और महिलाओं को बाजार से लेने में भी झिझक होती है. यह ज्यादा डिजाइन और फ्लेवर के नहीं मिलते है. यह एक ही फ्लेवर के होते हैं.

एलर्जी का खतरा और बर्थ कंट्रोल (Elergy and Birth Control)

फीमेल कंडोम के इस्तेमाल से प्राइवेट पार्ट पूरी तरह से ढक जाते हैं. पुरुष कंडोम लेटेक्स से बने होते हैं,जिससे एलर्जी का खतरा बढ़ जाता है लेकिन महिला कंडोम हाइपोएलर्जेनिक होता है,इसलिए इससे एलर्जी नहीं होती है.सबसे जरूरी और महत्वपूर्ण अंतर है कि इससे बर्थ कंट्रोल होता है. इसे योनि यानी वजाइना के अंदर रखा जाता और इसकी रिंग बाहर की तरफ होती है.

Next Story