अपराध

हरियाणा में दहेज के मामले के चलते सात माह की गर्भवती पत्नी ने मायके में फांसी लगाई, चार घंटे बाद ही पति ने भी की आत्महत्या

Mukesh Gusaiana
2 March 2022 10:00 AM GMT
राजू व जलधारा की फाइल फोटो
x

अंबाला। नया गांव कृष्णा कॉलोनी की रहने वाली जलधारा की दस महीने पहले ही राजू…

अंबाला। नया गांव कृष्णा कॉलोनी की रहने वाली जलधारा की दस महीने पहले ही राजू से शादी हुई थी। परिवारिक विवाद के चलते दोनों ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर दी। जलधारा ने मायके में फंदा लगाया तो पति राजू ने पत्नी की मौत के बाद अपने गांव में मौत को गले लगा लिया। पुलिस ने जलधारा के पिता की शिकायत पर राजू व उसकी मां सरस्वती के खिलाफ दहेज हत्या का मामला दर्ज किया है। फिलहाल जलधारा का शव पोस्टमार्टम के बाद परिजनों के हवाले कर दिया गया।

सात महीने की गर्भवती थी जलधारा

पिता हेत राम ने पुलिस को दी शिकायत में बताया कि पांच मई 2021 को उसने अपनी बेटी जलधारा की शादी मांडवाला पिंजौर के राजू से की थी। शादी में हैसियत से बढ़कर दहेज दिया गया था। हेतराम की मानें तो शादी के बाद से ही पति राजू व सास सरस्वती उसकी बेटी को प्रताड़ित कर रहे थे। इसी को लेकर जलधारा के साथ राजू व उसकी माता सरस्वती ने मारपीट की थी। इसको लेकर कई बार समझौता भी हुआ। परिवादी ने बताया कि उसकी बेटी करीब 7 महीने की गर्भवती थी।

करीब 15 दिन पहले ही जलधारा के साथ उसके पति राजू व उसकी मां ने मारपीट कर घर से निकाल दिया था। इसी वजह से वे अपने बेटी को घर ले आए थे। उसने बताया कि जब वह पत्नी व बेटे के साथ काम पर गया हुआ था तो पीछे से उसकी बेटी ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। नाती का ही उसे फोन आया था। उसका आरोप है कि ससुरालियों की यातनाओं से तंग आकर उसकी बेटी ने मौत को गले लगाया है। इसी आधार पर पुलिस ने दोनों के खिलाफ केस दर्ज किया है।

पत्नी की मौत के बाद पति ने भी आत्महत्या

उधर पत्नी जलधारा की मौत होने की सूचना के बाद पति राजू भी तनाव में आ गया। पता चला है कि उसने भी पत्नी की मौत के करीब चार घंटे बाद ही फंदे से झूलकर आत्महत्या कर ली। ससुरालियों के पास शाम को ही इस बात की सूचना पहुंच गई थी। बताते हैं कि राजू शादी से पहले मेहनत मजदूरी करता था। मगर शादी के बाद उसने काम करना छोड़ दिया था। मुश्किल से परिवार का गुजारा हो रहा था। इसी को लेकर पूरे परिवार में विवाद हो गया। खुद जलधारा के परिजनों ने भी यह बात स्वीकार की है कि मुश्किल से उनकी बेटी को दो वक्त की रोटी नसीब हो रही थी। लाख समझाने के बावजूद राजू ने उनकी बात नहीं मानी।

Next Story