अपराध

अब सड़कों पर नहीं दिखेंगे आवारा गोवंश, हरियाणा सरकार ने बनाई ये योजना

Mukesh Gusaiana
3 March 2022 8:57 AM GMT
अब सड़कों पर नहीं दिखेंगे आवारा गोवंश, हरियाणा सरकार ने बनाई ये योजना
x

चंडीगढ़। हरियाणा के पशुपालन एवं डेयरी मंत्री जेपी दलाल ने कहा कि राज्य में बेसहारा…

चंडीगढ़। हरियाणा के पशुपालन एवं डेयरी मंत्री जेपी दलाल ने कहा कि राज्य में बेसहारा गोवंश को सड़कों पर नहीं छोड़ा जाएगा और हमारा लक्ष्य है कि जितनी भी गाय बेसहारा हैं उनके लिए गौशाला बनाई जाए। इसी कड़ी में राज्य सरकार चिंतित है और इसके लिए लगातार प्रयास किया जा रहा है।

कृषि मंत्री हरियाणा विधानसभा में चल रहे सत्र के दौरान बेसहारा पशुओं के संबंध में लाए प्रस्ताव के बारे में अपना वक्तव्य दे रहे थे। उन्होंने कहा कि बेसहारा पशुओं की वजह से तरह-तरह की समस्याएं किसानों को आ रही है इस समस्या से निपटने के लिए गंभीरता से विचार किया जा रहा है।

ऐसे बेसहारा पशुओं के संबंध में हमारी सरकार ने कानून लाने का काम भी किया है लेकिन आज लोग गायों को अपने घर रखने की बजाए सड़कों पर छोड़ रहे हैं लेकिन लोगों को सरकार के इस प्रयास के साथ अपनी ओर से भी सहयोग करना चाहिए।

उन्होंने कहा कि हरियाणा के गौवंश व अन्य बेसहारा पशुओं के लिए सरकार ने बहुत से कदम उठाए हैं। बेसहारा पशुओं के लिए गौ अभ्यारण, नंदी शालाएं खोलने का काम किया गया है और गौशालाओं में गायों को एकत्रित कर भेजने का काम किया गया है।

इसी प्रकार, गौ सेवा आयोग गठन किया गया तथा 4.5 लाख गौवंश को गौशालाओं में भेजा गया है। सरकार ने एक नीति बनाई है जिसके तहत कोई भी व्यक्ति या संस्था 1000 रूपए प्रति एकड़ प्रति साल के तहत भूमि लेकर गौशाला संचालित कर सकता है।

पंचकूला में स्थापित गौशाला में गौबर से खाद बनाने का काम किया गया है और इसी प्रकार, इस गौशाला में नेचुरल पेंट बनाने का काम भी किया गया है। भारतीय गैस प्राधिकरण द्वारा गैस खरीदने के लिए विभिन्न समझौते किए गए हैं।

राज्य में 600 गौशाला

उन्होंने बताया कि राज्य में 600 गौशाला चल रही हैं और इनमें 4.5 लाख गौवंश को रखा गया है तथा इसी प्रकार, एक लाख बेसहारा गोवंश को गौ शालाओं में रखने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं।

उन्हें प्राकृतिक खेती का जिक्र करते हुए कहा कि प्राकृतिक खेती में भी गौवंश बहुत योगदान हैं और सरकार इस ओर अग्रसर है कि इस पर एक नीति तैयार की जाए ताकि खाद का पैसा बचे और प्राकृतिक खेती को प्रोत्साहित किया जा सकें। दलाल ने कहा कि वर्ष 2014 से 2022 के दौरान गौशालाओं का बजट दोगुना किया गया हैं। दलाल ने कहा कि इसी तरह लाखों कुत्तो का स्टरलाईजेशन किया गया है।

चारा आदि देने के लिए आगे आएं लोग

हरियाणा के गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने राज्य के लोगों से आहवान करते हुए कहा कि बेसहारा पशुओं के रखरखाव के लिए सरकार तो व्यवस्था कर ही रही है लेकिन चारा इत्यादि देने के लिए लोगों को आगे आना चाहिए।

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि आज ऐसी व्यवस्था की आवश्यकता है जिस में गौचारण के लिए स्थान हो, भोजन की व्यवस्था हो, इसके लिए संस्थाएं भी आगे आएं इसी प्रकार अन्य पशुओं के पालन की सामाजिक व्यवस्था भी होनी चाहिए इससे लोगों को पुण्य भी मिलेगा।

Next Story