मौसम की जानकारी

जल्द ही मानसून देगी दस्तक, झमाझम बारिश से हरियाणा, एनसीआर और दिल्ली में बदलेगा मौसम

Tejpal Gurera
29 Jun 2022 5:04 AM GMT
जल्द ही मानसून देगी दस्तक, झमाझम बारिश से हरियाणा, एनसीआर और दिल्ली में बदलेगा मौसम
x
जून महीने में गर्मी ने उत्तर भारत मे काफी परेशानियां पहुंचाई। लोगों को गर्मी में बीमारी और डिहाइड्रेशन से बेहाल थे।

जून महीने में गर्मी ने उत्तर भारत मे काफी परेशानियां पहुंचाई। लोगों को गर्मी में बीमारी और डिहाइड्रेशन से बेहाल थे। फिलहाल अब मौसम जल्द ही करवट लेने वाला है क्योंकि 28 और 29 जून हल्की बारिश व बूंदाबादी के आसार है। बीते 28 तारिक को उत्तर भारत मे कुछ जगाहों में हल्की बूंदाबांदी देखने को मिली है। इससे हरियाणा, एनसीआर व दिल्ली में मौसम बदलने के आसार है।

IMD ने बताया है कि विक्षोभ के प्रभाव से हवाओं के विपरीत दिशा में जाने से बादल अपना डेरा जमा लेंगे और कुछ स्थानों देर शाम रात्रि से ही 40 -50 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलने और बारिश के साथ सिमित स्थानों पर गरज चमक के साथ ओलावृष्टि की गतिविधियां शुरू होने की संभावना है। 30 जून की सुबह से ही सम्पूर्ण हरियाणा व एनसीआर दिल्ली में अधिकतर स्थानों पर रूक- रूक कर बारिश का फैलाव बढ़ेगा और आगे जुलाई के शुरुआत से ही मानसून गतिविधियों के रफ्तार पकड़ने की संभावना है।

हरियाणा में फिलहाल तापमान 38 डिग्री से 42 डिग्री के बीच रहने की उम्मीद है। वही एनसीआर में 34 से 38 डिग्री तक तापमान रहेगा, और दिल्ली में तापमान 35 डिग्री तक रहने के उम्मीद बताई जा रही है।

देश भर में बने मौसमी सिस्टम

27 जून को दक्षिण-पश्चिम मानसून अरब सागर के अधिकांश हिस्सों और गुजरात के अधिकांश हिस्सों में पहुंच गया है।

एक चक्रवाती परिसंचरण उत्तर-पूर्व अरब सागर के ऊपर मध्य क्षोभमंडल स्तर तक फैला हुआ है।

एक और चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र मध्य प्रदेश के मध्य भागों और आसपास के क्षेत्र पर बना हुआ है।

एक ट्रफ रेखा मध्य प्रदेश के ऊपर बने चक्रवाती सर्कुलेशन से लेकर पूर्वोत्तर अरब सागर के ऊपर बने साइक्लोनिक सर्कुलेशन तक फैली हुई है।

अपतटीय ट्रफ रेखा दक्षिण गुजरात तट से उत्तरी केरल तट तक बनी हुई है।

एक और चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र दक्षिण-पश्चिम राजस्थान और आसपास के क्षेत्र में देखा जा सकता है।

पूर्व पश्चिम ट्रफ रेखा दक्षिण-पश्चिम राजस्थान पर बने चक्रवाती परिसंचरण से दक्षिण-पूर्व राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और दक्षिण ओडिशा में पश्चिम मध्य बंगाल की खाड़ी तक फैली हुई है।

पिछले 24 घंटों के दौरान देश भर में हुई मौसमी हलचल

पिछले 24 घंटों के दौरान, उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल, सिक्किम, असम के कुछ हिस्सों, मेघालय, अरुणाचल प्रदेश और विदर्भ के कुछ हिस्सों में मध्यम से भारी बारिश हुई।

तटीय आंध्र प्रदेश, कोंकण और गोवा, मध्य महाराष्ट्र के कुछ हिस्सों और तटीय कर्नाटक में एक या दो स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश हुई।

केरल, लक्षद्वीप, दक्षिण तटीय आंध्र प्रदेश, मराठवाड़ा के कुछ हिस्सों, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश और हिमाचल प्रदेश में एक या दो स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश हुई।

रायलसीमा, तेलंगाना, ओडिशा, दक्षिणपूर्व राजस्थान, गुजरात के कुछ हिस्सों, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और बिहार, गंगीय पश्चिम बंगाल और आंतरिक तमिलनाडु में एक या दो स्थानों पर हल्की बारिश हुई।

अगले 24 घंटों के दौरान मौसम की संभावित गतिविधि

अगले 24 घंटों में उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के कुछ हिस्सों में मानसून की शुरुआत के लिए स्थितियां अनुकूल होती जा रही हैं।

उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल, सिक्किम, असम, मेघालय, अरुणाचल प्रदेश, कोंकण और गोवा, तटीय कर्नाटक, दक्षिण-पश्चिम मध्य प्रदेश के कुछ हिस्सों, गुजरात क्षेत्र, उत्तरी मध्य महाराष्ट्र, मराठवाड़ा, विदर्भ और कुछ स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश संभव है। तेलंगाना, छत्तीसगढ़ और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में एक या दो स्थानों पर।

उत्तर प्रदेश, ओडिशा, तटीय आंध्र प्रदेश, केरल, लक्षद्वीप, दक्षिण मध्य प्रदेश उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों की तलहटी में हल्की से मध्यम बारिश संभव है।

जम्मू कश्मीर हिमाचल प्रदेश और उत्तर प्रदेश के पश्चिमी हिस्सों में हल्की से बहुत हल्की बारिश संभव है।

29 जून को पंजाब, हरियाणा, दिल्ली और पूर्वोत्तर राजस्थान के कुछ हिस्सों में हल्की बारिश के साथ गरज के साथ बौछारें पड़ सकती हैं।

Next Story