मौसम की जानकारी

दक्षिण-पश्चिम मानसून ने 6 दिन पहले ही पूरे देश में दी दस्तक, बारिश पर मौसम विभाग ने दिया ये अपडेट

Tejpal Gurera
3 July 2022 5:08 AM GMT
दक्षिण-पश्चिम मानसून ने 6 दिन पहले ही पूरे देश में दी दस्तक, बारिश पर मौसम विभाग ने दिया ये अपडेट
x
दक्षिण-पश्चिम मानसून ने अपनी निर्धारित तिथि से छह दिन पहले ही शनिवार को पूरे देश में दस्तक दे दी है।

दक्षिण-पश्चिम मानसून ने अपनी निर्धारित तिथि से छह दिन पहले ही शनिवार को पूरे देश में दस्तक दे दी है। भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने यह जानकारी दी। आईएमडी के वरिष्ठ वैज्ञानिक आर. के. जेनामनी ने कहा, "दक्षिण-पश्चिम मानसून उत्तरी अरब सागर, गुजरात और राजस्थान के शेष हिस्सों में आगे बढ़ गया है। इस प्रकार, इसने 8 जुलाई की सामान्य तिथि के मुकाबले शनिवार को ही पूरे देश को कवर कर लिया है।"

आईएमडी के आंकड़ों से पता चलता है कि पिछले 20 वर्षों में, दक्षिण-पश्चिम मानसून ने केवल 2011 में 8 जुलाई को पूरे देश को कवर किया था। इसने 2013 में पूरे देश को सबसे पहले 16 जून को कवर किया था, जबकि सबसे अधिक देरी 2006 में हुई थी, जब इसने 24 जुलाई को पूरे देश को कवर किया था।

अपने निर्धारित आगमन से तीन दिन पहले 27 मई को केरल तट से टकराने के बाद, दक्षिण प्रायद्वीपीय क्षेत्रों और मध्य भारत में मानसून की धीमी प्रगति हुई है। फिर, अनुकूल प्रणालियों के अभाव में, बल्कि एक कमजोर प्रणाली के कारण, चार से पांच दिनों के लिए मानसून की कोई प्रगति नहीं हुई थी, इससे पहले कि अंत में इसने दिल्ली एनसीआर और दक्षिण-पश्चिम भारतीय मैदानी इलाकों के बड़े हिस्से को 30 जून को तय समय से तीन दिन पहले ही छू लिया।

1 जुलाई को आईएमडी ने कहा था कि अगले दो दिनों के दौरान राजस्थान और गुजरात के शेष हिस्सों में मानसून के आगे बढ़ने के लिए परिस्थितियां अनुकूल हैं। एक मौसम विज्ञानी ने कहा, "जब हम कहते हैं कि अगले दो दिनों के दौरान तो इसका मतलब उन 48 घंटों के दौरान किसी भी समय हो सकता है। इस तरह, हमारी भविष्यवाणी सही है।"

इस बीच, जुलाई के लिए, आईएमडी ने उत्तर भारत के कुछ हिस्सों, मध्य भारत और दक्षिण प्रायद्वीप के अधिकांश हिस्सों में 'सामान्य और सामान्य से ऊपर' बारिश की संभावना की भविष्यवाणी की है। जबकि इसने पूर्वी और पूर्वोत्तर भारत के अधिकांश हिस्सों और पूर्व मध्य भारत से सटे क्षेत्रों के साथ ही पश्चिम दक्षिण प्रायद्वीपीय भारत के कुछ हिस्सों में 'सामान्य और सामान्य से नीचे' बारिश का अनुमान लगाया है।

Next Story